किसी गाँव में एक गड़ेरिया रहता था । वह प्रतिदिन अपनी भेड़ों को पहाड़ की तलहटी में चराने ले जाता था ।
Gaderiya-Panchtantra-Ki-Hindi-Kahaniya 

जब भेड़ें चरने लगती थीं तब बैठे - बैठे उसे अकेलापन और ऊबन सताती थी । उसे समझ नहीं आता था कि वह क्या करे । एक दिन उसे एक शरारत सूझी ।


वह चिल्लाया , “ भेड़िया आया , भेड़िया आया । " उसकी पुकार सुनकर गाँववाले भागे आए । उसने कहा , “ बुद्धू बनाया , बुद्ध बनाया " और हँसने लगा । गाँव वालों को बहुत क्रोध आया । 


वे चुपचाप वापस चले गए पर गड़ेरिए को बहुत मजा आया । ऐसा उसने कई बार किया । एक दिन सच में भेड़िए ने भेड़ों पर हमला कर दिया । सहायता के लिए चिल्लाने पर भी कोई गाँव वाला नहीं आया । 


गड़ेरिया देखता ही रह गया और भेड़िया भेड़ों को लेकर चला गया । अपनी मूर्खता पर गड़ेरिया बहुत पछताया और खाली हाथ वापस लौटा ।

 शिक्षाः झूठ बोलने वालों पर कोई विश्वास नहीं करता है ।

Post a Comment