एक महल में राजा के शयनकक्ष में सफेद चादर की तह में एक खटमल रहता था । उसका वहाँ एकक्षत्र राज्य था ।

  Khatmal-Or-Pissu-Panchtantra-Hindi-Kahani आराम से शाही रक्त का स्वाद लेता और ऐश करता था । एक दिन एक पिस्सू कहीं से उड़ता हुआ शयनकक्ष में आ गया । खटमल ने पिस्सू से वहाँ आने का कारण पूछा ।


 पिस्सू ने कहा कि वह भी शाही रक्त का स्वाद लेना चाहता था । खटमल ने पलभर सोचा और फिर उसे रहने की अनुमति दे दी । साथ ही सलाह दिया कि राजा के गहरे नींद में आने तक उसे प्रतीक्षा करनी होगी ।


 शीघ्रता करना घातक सिद्ध हो सकता था । तभी राजा सोने के लिए भीतर आए । पिस्सू ने बिना प्रतीक्षा किए हुए उड़कर राजा को काट लिया । क्रोधित राजा ने अपने सेवकों को बुलाकर सब बताया । 


पिस्सू तो झट से उड़ गया पर सेवकों ने एक कोने में छिपे हुए खटमल को पकड़ लिया और फिर शयनकक्ष से बाहर फेंक दिया ।


 शिक्षा : गलत साथ से नुकसान ही होता है ।

Post a Comment