एक समय की बात है ... एक खूबसूरत जंगल था । वह पहाड़ों और झरनों से घिरा हुआ था । 


Ek-Sajak-Hirani-ki-Hindi-kahaniya


जंगल की ओर एक नदी बहती थी उस जंगल में एक सुंदर कानी हिरणी रहती थी । कानी होकर भी वह अत्यंत प्रसन्न , साहसी और सजग थी । पहाड़ की ऊँची चोटियों पर चरती थी । सभी जानवर उसके मित्र थे । उस चतुर हिरणी ने कई जानवरों को शिकारियों से बचाया था । 


एक दिन एक चोटी पर वह घास चर रही थी । एक शिकारी पीछे की ओर से नाव पर सवार होकर आया और उसी चोटी के पास गया जिस पर हिरणी चर रही थी । हालांकि हिरणी घास खाने में व्यस्त थी पर उसके कानों को खतरे का आभास हो गया । शिकारी उस पर निशाना साध ही रहा था कि वह अचानक से मुड़ी ।


 इधर तीर छूटा और उसने तेजी से जंगल में भागकर अपनी जान बचा ली ।


 शिक्षा : सजगता मुसीबतों से रक्षा करती है ।

Post a Comment