खरगोश और कछुआ एक खरगोश सदा अपने तेज दौड़ने की डींग हाँका करता था । गर्व से भरे हुए खरगोश ने एक दिन सबको अपने साथ दौड़ लगाने की चुनौती दी ।

Moral-Hindi-Story

एक कछुए ने उसकी चुनौती स्वीकार कर ली । जंगल के सभी जानवर कछुए की खिल्ली उड़ाने लगे । पर कछुए ने हिम्मत नहीं हारी । अगले दिन सभी जानवर दौड़ देखने के लिए निश्चित स्थान पर इकट्ठे हुए । दौड़ शुरु होते ही खरगोश कछुए को छोड़कर काफी आगे निकल गया । रास्ते में उसे पत्तागोभी का खेत दिखाई दिया । 

वहाँ रुककर उसने जमकर पत्तागोभी खायी । उसे नींद आने लगी तो उसने सोचा थोड़ा विश्राम कर लेता हूँ । वह लेटकर सो गया । कछुए ने हिम्मत नहीं हारी और धीरे - धीरे चलता हुआ अंतिम रेखा तक पहुँच गया । अचानक खरगोश जागा और भागा पर तब तक कछुआ दौड़ पूरी कर चुका था । 

शिक्षा : सतत प्रयास से जीत अवश्य मिलती है ।

Post a Comment