एक बार की बात है। किसी जंगल में एक शेर रहता था । जंगल के जानवरों ने मिलकर एक दिन शेर से कहा कि उसे शिकार करने की आवश्यकता नहीं है । वे प्रतिदिन नियमित रूप से एक जानवर उसके भोजन के लिए भेज देंगे । 


शेर और खरगोश | Moral-Hindi-Kahani


शेर राजी हो गया । एक दिन खरगोश की बारी आई । शेर के पास जाते समय उसने रास्ते के कुएँ में झांका तो उसे अपनी परछाई दिखाई दी । तुरंत ही खरगोश को एक युक्ति सूझी । भूखे शेर ने भोजन के लिए एक छोटे से खरगोश को देखा तो क्रोधित हो उठा । खरगोश ने कहा कि पाँच खरगोश आपके लिए आ रहे थे किन्तु रास्ते में एक दूसरे शेर ने चार खरगोशों को खा लिया । वह शेर एक कुएँ में रहता था।

 “ अच्छा , चलो अभी देखता हूँ । " कुएँ के पास पहुँचकर शेर ने भीतर झांका तो उसे अपनी ही परछाई दिखाई दी । उसे दूसरा शेर समझकर , उससे लड़ने के लिए , शेर कुएँ में कूद गया । खरगोश बहुत प्रसन्न हो गया । सारे जानवर अब जंगल में खुशी - खुशी रहने लगे।

 शिक्षा : शांत भाव , सही निर्णय लेने में सहायक होता है ।

Post a Comment